“कठुआ के जीएचएस लोगेट में कार्यरत सरदार हरप्रीत सिंह जी को सर्वश्रेष्ठ शिक्षक का पुरस्कार”

9

५ सितंबर २०२२ को जम्मू कश्मीर केंद्र शासित प्रदेश स्तर पर सर्वश्रेष्ठ शिक्षकों को माननीय उप राज्यपाल श्री मनोज सिन्हा जी ने एस.के.आई.सी.सी (श्रीनगर) में सम्मानित किया जिनमें से एक कठुआ ज़िले के शिक्षक सरदार हरप्रीत सिंह जी भी है जो जी.एच.एस लोगेट में कार्यरत हैं। यह वास्तव में पूरे कठुआ के लिए और विशेषकर शिक्षा विभाग के लिए बहुत ही गर्व की बात है। शिक्षक हरप्रीत सिंह जी ने २००९ से शिक्षा विभाग में कदम रखा और पंडोरी, माध्यमिक विद्यालय कठुआ से शैक्षणिक सेवाओं की यात्रा आरंभ करते हुए गर्ल्स हाई सेकेंडरी स्कूल, कठुआ से होते हुए वर्तमान समय में जीएचएस लोगेट, में कार्यरत हैं।


अपने पिता सरदार दर्शन सिंह जी जो एक सेवानिवृत्त प्राचार्य थे और जिन्होंने १९८९ में सर्वश्रेष्ठ शिक्षक का राष्ट्रपति पुरस्कार भी प्राप्त किया था, आज उन्हीं के पद चिन्हों पर चलते हुए इस स्थान पर पहुंचे हैं जिसमें पूरे कठुआ का नाम रोशन हुआ है। उनकी माताजी सरदारनी गुरचरण कौर सफल गृहिणी हैं। उनके बड़े भाई साहब सरदार राजेंद्र सिंह जी अंग्रेजी के वक्ता के पद से हायर सेकेंडरी स्कूल, कठेरा से सेवानिवृत्त हुए हैं। इसके साथ ही उनकी धर्मपत्नी हरमीक कौर भी शिक्षा विभाग में शिक्षक के पद पर बी एच एस एस, कठुआ में कार्य कर रहीं हैं। पूरा परिवार शिक्षा विभाग में अभूतपूर्व सेवाएं दे चुका है और दे भी रहा है।
शिक्षक हरप्रीत सिंह जी ने ६ माह ज़िला कठुआ की जेल में भी कैदियों को शिक्षा देने का काम किया है।कोरोना महामारी का कहर जब पूरी दुनिया पर छा रहा था, उन दिनों में भी वे विद्यार्थियों के लिए कार्य कर रहे थे और विशेषकर ११वीं और १२वीं कक्षा के विद्यार्थियों के लिए घर पर ही एक छोटा सा स्टूडियो तैयार किया और ऑनलाइन कक्षाओं के वीडियोज़ बनाने शुरू किए।
भारत सरकार की तरफ से भी उन्हीं दिनों शिक्षा के चैनल आरंभ किए गए जैसे दीक्षा, ज्ञानदर्शन, निष्ठा, डी आर सी आदि।
इन सब में २८ जून, २०२० की तिथि विशेष है जब प्रधानमंत्री श्री मोदी जी के “मन की बात” कार्यक्रम में उनकी कक्षाओं को राष्ट्रीय स्तर पर चुना गया और दो पाठ प्रसारित भी किये गये। रिसोर्स पर्सन के रूप में डी आई ई टी (बसोहली) एस सी ई आर टी (जम्मू) एन,सी,ई,आर,टी में भी कार्य कर रहे हैं और इग्नू की और से बी. एड. की भी कक्षाएं अवसर मिलने पर लेते हैं।
शिक्षक हरप्रीत सिंह जी को राष्ट्रीय स्तर पर दूसरी आई एस एफ टी, २०२२ में स्वर्ण पदक भी प्राप्त हुआ जिसमें उन्होंने बिना किसी व्यय के विज्ञान के मॉडल प्रदर्शित किए थे। पाठ को रुचिकर बनाने के लिए वे ऐसे टी. एल. एम का प्रयोग करते हैं जो न्यूनतम मूल्य पर या बिलकुल मुफ्त होते हैं और ये सब वे स्वयं तैयार करते हैं।
कठुआ के मुख्य शिक्षा अधिकारी श्री प्रकाश लाल थापा जी ने ढेरों शुभकामनाएं उनके प्रति व्यक्त करते हुए कहा कि शिक्षकों के लिए वे आज प्रेरणा स्रोत बन चुके हैं। इसके अतिरिक्त शिक्षा विभाग के अन्य सभी अधिकारियों ने भी उन्हें हार्दिक शुभकामनाएं प्रदान की हैं।
पूरे कठुआ से उनके लिए शुभकामनाएं संदेश आ रहे हैं और उनके उज्जवल भविष्य की कामना की जा रही है।