पंजाब सरकार डिसेबल बच्चों के लिए जल्द ही कई बड़े कदम उठाने जा रही है

395

 

पंजाब सरकार डिसेबल बच्चों के लिए जल्द ही कई बड़े कदम उठाने जा रही है यह कहना है स्वास्थ्य मंत्री ब्रह्म महिंद्रा का। वह शनिवार को सेक्टर-43 स्थित जुडिशल अकादमी में पंजाब लीगल सर्विस अथॉरिटी और शिवली के एक कांफ्रेस में शामिल होने पहुंचे थे। यह कांफ्रेस डिसेबल बच्चों को लेकर आयोजित किया गया जिसमें पंजाब के अलग-अलग जिलों से डिसेबल बच्चे, उनके पेरेंट्स और ऐसे बच्चों के लिए काम करने वाले कई एनजीओ ने हिस्सा लिया। कॉन्फ्रेंस की शुरुआत सवाल-जवाब के साथ हुई जिसमें पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट के जस्टिस राजीव भल्ला ने अपने सवाल स्वास्थ्य मंत्री के सामने रखें। जिनमें से ज्यादातर सवालों के जवाब स्वास्थ्य मंत्री नहीं दे पाए। हालांकि जाते-जाते ब्रह्म महिंद्रा यह जरूर बोल गए कि डिसेबल बच्चों के लिए जो भी बन पड़ेगा वो जरूर करेंगे।
इसके साथ ही डिसेबल बच्चों के सर्टिफिकेट को लेकर भी सवाल किया गया। कहा गया कि हर जगह सर्टिफिकेट फ्री में बनते हैं जबकि पंजाब में सर्टिफिकेट बनवाने के लिए कहीं 10 रुपये तो कहीं 200 रुपये लिए जाते हैं, इसके लिए एक गाइडलाइंस होनी चाहिए। हालांकि इस सवाल पर भी स्वास्थ्य मंत्री चुप ही रहे।
सवाल-जवाब के बीच एक डिसेबल बच्चे की मां ने स्वास्थ्य मंत्री से पूछा कि पंजाब में डिसेबल बच्चों के लिए एक्ट होने का क्या फायदा जब टीचर्स के पास प्रॉपर ट्रेनिंग ही नहीं होती। उनको पता ही नहीं होता कि बच्चों के साथ कैसे ट्रीट करना है। इसका जवाब देते हुए स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि उन्हें नहीं पता था कि उनसे यहां पर शिक्षा से संबंधित भी सवाल पूछे जाएंगे वरना वह शिक्षा मंत्री और सोशल वेलफेयर के अधिकारियों को भी लेकर आते। हालांकि सीनियर एडवोकेट रीटा कोहली का भी मानना है कि पंजाब में कई जगह ऐसी दिक्कतें हैं।
इस कार्यक्रम में स्वास्थ्य मंत्री के अलावा पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट के जस्टिस TPS मान, जस्टिस राजीव भल्ला, मोहाली डिस्ट्रिक्ट जज अर्चना पूरी आदि मौजूद रहे।