चंडीगढ़ कार डीलर्स ने नगर निगम के खिलाफ निकाला रोष मार्च

431

चंडीगढ़ कार डीलर एसोसिएशन ने आज अपनी मांगों को लेकर नगर निगम के खिलाफ हल्लो माजरा चौक से एक रोष मार्च निकाला। वह मांग कर रहे थे कि नगर निगम द्वारा सेक्टर 7 चंडीगढ़ में स्थित कार मार्केट को हल्लो माजरा शिफ्ट कर दिया गया है, जहां कानून व्यवस्था की खराब स्थिति के चलते कोई भी ग्राहक आने को तैयार नहीं है। उन्होंने मांग की कि उन्हें चंडीगढ़ के बीचों-बीच कार बाजार के लिए जगह दी जाए अन्यथा वह म्युनिसिपल कारपोरेशन का घेराव करेंगे।

कार डीलर एसोसिएशन चंडीगढ़ के प्रधान गुलशन कुमार ने बताया कि 10 महीने पहले नगर निगम ने कार बाजार के लिए हल्लो माजरा के पास स्थान नियत कर दिया था और सेक्टर 7 से कार बाजार हटा दिया था । उसके बाद से कार बाजार का काम बिल्कुल ठप हो गया। हमारी एसोसिएशन में 64 ट्रेडर्स है पर 51 को जगह दी गई है शेष 13 को पहले ही बेरोजगार कर दिया गया है। सेक्टर 7 में 2000 कारें खड़ी हो जाती थी पर यहां पर सिर्फ 500 कारों के खड़े होने का ही इंतजाम है। इस इलाके में कानून व्यवस्था की स्थिति बहुत खराब है, जिसके चलते ग्राहक इस इलाके में आता ही नहीं और हम लोग भूखे मर रहे हैं। इसके लिए हम कई बार उच्च अधिकारियों से मिल चुके हैं पर कोई फायदा नहीं हुआ। अब जब तक हमारी मांग मानी नहीं जाती हम लगातार प्रोटेस्ट पर रहेंगे और हम म्युनिसिपल कारपोरेशन का घेराव करेंगे। हफ्ते में एक बार कार बाजार लगता है जिसके लिए हम 3:50 लाख रुपया का रेंट म्युनिसिपल कारपोरेशन को देते हैं। गुलशन कुमार ने बताया कि कार डीलर चंडीगढ़ नगर निगम को प्रति सप्ताह अच्छा खासा रेवेन्यू देने वाले कार डीलर्स ने अब नगर निगम द्वारा सुनिश्चित स्थान पर कार बाजार न लगाने का फैसला लिया है। इसके फलस्वरूप कार डीलर्स ने आज विरोध स्वरूप प्रोटेस्ट किया। कार डीलर्स ने इस दौरान न कोई गाडी बेची और न ही अलग अलग राज्यो व शहरो से आये किसी कस्टमर को अटेंड किया। बल्कि अपनी इस लड़ाई में उन्हें सहयोग देने की अपील की।

उन्होंने कहा कि अपनी समस्या के सम्बन्ध में वो चंडीगढ़ नगर निगम के आयुक्त से मुलाक़ात कर चुके है, पर उन्होंने कोई उचित जवाब नहीं दिया। जबकि जब इस बारे में नगर सांसद किरण खेर से मुलाक़ात कर अपनी समस्या से अवगत करवाया गया तो उन्होंने कार डीलर्स कि प्रॉब्लम का कड़ा संज्ञान लेते हुए इस मामले को जल्द से जल्द निपटाने का आश्वासन दिया । गुलशन कुमार ने बताया कि कार बाजार न लगने से यहाँ नगर निगम को 3.50 लाख का नुक्सान हुआ है, वही कार डीलर्स को कार बाजार बंद करने से कार के सेल परचेस न होने लगभग 3 से 5 करोड़ का लॉस हुआ है ।

एसोसिएशन के प्रधान गुलशन कुमार ने बताया कार डीलर सेक्टर 07 मध्य मार्ग पर कार बाजार लगाते आ रहे थे। इसके एवज में नगर निगम उनसे प्रति सप्ताह किराया लेता था। कार बाजार में उच्च, मध्यम व सभी तबके के लोग सेकंड हैंड कार की खरीद फरोख्त के लिए आते थे। पूरे उत्तर भारत में कार बाजार की विशेष पहचान बन चुकी थी। उन्होंने आगे कहा कि परन्तु गत वर्ष नगर निगम ने उन्हें यहाँ से शिफ्ट कर शहर के नेगलेक्टेड हिस्से में भेज दिया। नगर निगम ने यहाँ शिफ्ट किया वहाँ का किराया तो पिछली जगह से भी ज्यादा रख दिया, बल्कि सुविधा के नाम पर बेबकुफ़ बना दिया ।

गुलशन कुमार ने बताया कि अगर जल्द ही उनकी मांगे न मानी गयी तो आने वाले दिनों में कार डीलर्स न केवल नगर निगम का घेराव करेंगे बल्कि अपने हक़ कि लड़ाई को सड़क पर ले आएंगे और शहर के मुख्य मार्गो पर जाम लगाएंगे ।